अहमदाबाद-धोलेरा के बीच बन रहा है छह मार्गीय Green Field एक्सप्रेस-वे

Spread the love

भारत अब हाईवे के नए युग में पहुंच चुका है. देश में करीब 63 लाख किलोमीटर रोड नेटवर्क है, जो दुनिया में दूसरे नंबर पर है. इसके साथ ही, प्रतिदिन नेशनल हाईवे के निर्माण का लक्ष्‍य 50 किलोमीटर रखा गया है, जिससे अधिक से अधिक नेशनल हाईवे का निर्माण हो सके.

देशभर में मल्टी-मॉडल कनेक्टिविटी और अंतिम छोर तक पहुंच (लास्ट माइल कनेक्टिविटी) में सुधार लाने के उद्देश्य से “पीएम गति शक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान (एनएमपी)” के तहत महत्वपूर्ण प्रगति की है.

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के अनुसार भारत में करीब 63 लाख किलोमीटर रोड नेटवर्क है. यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा नेटवर्क है. रोड इंफ्रास्ट्रक्चर भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian economy) के विकास में अहम भूमिका निभाता है.

केंद्र सरकार नेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन (National Infrastructure Pipeline) के जरिए इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट में 111 लाख करोड़ रुपये का निवेश कर रही है. सरकार ने साल-दर-साल इंफ्रास्ट्रक्चर कैपेक्स (infrastructure Capex) को इस साल 34 फीसदी बढ़ाकर 5.54 लाख करोड़ रुपए कर दिया गया है.

प्रतिदिन 50 किलोमीटर हाईवे बनाने का लक्ष्य

प्रतिदिन 50 किलोमीटर नेशनल हाईवे बनाने का लक्ष्‍य रखा गया  है. देश में नेशनल हाईवे निर्माण की गति 2020-21 में रिकार्ड 37 किलोमीटर प्रति दिन थी. 

वर्तमान में भारत में परिवहन लागत 16 प्रतिशत, चीन और अमेरिका में 12-12 प्रतिशत और यूरोपीय देशों में 10 प्रतिशतरने का लक्ष्य बना रही है. उन्होंने उम्मीद जताई कि चालू वित्त वर्ष की निर्माण गति वर्ष 2020-21 की तुलना में अधिक होगी.

2.5 लाख करोड़ रुपए की सुरंगें बनाने की योजना

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के अनुसार सड़कों के किनारे बेहतर यात्रा के लिए देशवासियों को 400 से अधिक तरह की सुविधाएं मुहैया करा रहे हैं. 

मंत्रालय 2.5 लाख करोड़ रुपये की सुरंगें बनाने की योजना बना रहा है. बेहतर काम के बल पर नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) ने सिर्फ 18 घंटों में 25.54 किलोमीटर सिंगल लेन हाईवे का निर्माण कर वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर चुकी है.

NHAI ने यह काम विजयपुर और सोलापुर के बीच NH-52 पर बनाए जा रहे चार लेन हाईवे पर किया है.

पीएम गतिशक्ति के तहत ग्रीन फील्‍ड एक्‍सप्रेसवे का निर्माण

पीएम गति शक्ति एनएमपी के तहत मंत्रालय भारतमाला परियोजना और मंत्रालय की अन्य योजनाओं के हिस्से के रूप में 22 ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे, 23 अन्य प्रमुख परियोजनाओं व अन्य राजमार्ग परियोजनाओं के साथ 35 मल्टी-मॉडल लॉजिस्टिक्स पार्क (MMLP) विकसित करने की योजना बना रहा है.

कुछ प्रमुख एक्सप्रेसवे और कॉरिडोर निर्माणाधीन चरण में हैं. इनमें दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे, अहमदाबाद-धोलेरा एक्सप्रेसवे, दिल्ली-अमृतसर-कटरा एक्सप्रेसवे, बेंगलुरु-चेन्नई एक्सप्रेसवे,अंबाला-कोटपुतली एक्सप्रेसवे,अमृतसर-भटिंडा-जामनगर एक्सप्रेसवे, रायपुर-विशाखापत्तनमएक्सप्रेसवे,हैदराबाद-विशाखापत्तनम एक्सप्रेसवे,चेन्नई-सेलम एक्सप्रेसवे और चित्तूर-थाच्चूर एक्सप्रेसवे शामिल हैं.

इसी तरह की और जानकारी के लिए हमारे Facebook पेज को लाइक करें और InstagramTwitter पे हमें फ़ॉलो करें। आप इस विषय में कोई भी जानकारी कॉमेंट्स के द्वारा हम तक पहुँचा सकते हैं। आप के सुझाव हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं|